Home Uncategorized बठिंडा लोकसभा सीट: इस बार 2014 की तरह आसान नहीं होगी हरसिमरत...

बठिंडा लोकसभा सीट: इस बार 2014 की तरह आसान नहीं होगी हरसिमरत कौर की राह

Bathinda, the way for Harsimrat Kaur will not be as easy as 2014 this time

लोकसभा चुनाव 2019 में पंजाब की बठिंडा लोकसभा सीट पर इस बार कड़ी टक्कर होने की उम्मीद है। 2014 में अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल ने यहां से बहुत कम वोटों के अंतर से कांग्रेस के उम्मीदवार को हराया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में एक बार फिर से हरसिमरत कौर बादल बठिंडा से चुनाव मैदान में उतरेगी लेकिन अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि हरसिमरत कौर के मुकाबले कांग्रेस किसे मैदान में उतारेगी। वैसे कांग्रेस इस सीट पर हरसिमरत कौर के खिलाफ मजबूत उमीदवार की तलाश में हैं। वहीं आम आदमी पार्टी भी चुनावी मैदान में ताल ठोकने की तैयारी कर रही है।

2014 का जनादेश

16वीं लोकसभा में बठिंडा से शिरोमणि अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल ने 19,395 वोटों से जीत हासिल की थी। उन्होंने कांग्रेस के मनप्रीत सिंह बादल को हराया था। इस चुनाव में हरसिमरत कौर को 43.73 फीसदी वोट शेयर के साथ 5,14,727 वोट मिले थे, जबकि कांग्रेस के मनप्रीत सिंह को 42.09 फीसदी वोट के साथ कुल 4,95,332 वोट मिले थे। तीसरे नंबर पर आम आदमी पार्टी के जसराज सिंह लोंगिया को कुल 87,901 वोट मिले थे। कुल मिलाकर हरसिमरत कौर ने बहुत ही कम वोटों के अन्तर से जीत हासिल की थी।

सामाजिक व राजनीतिक समीकरण

बठिंडा सीट पर 2014 लोकसभा चुनाव की मतगणना के अनुसार कुल 13,36,790 मतदाता हैं, जिसमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 7,03,949 और महिला मतदाताओं की संख्या 6,32,841 है। लोकसभा चुनाव के दौरान बठिंडा के अंदर कुल 1302 पोलिंग स्टेशन बनाए गए थे। 2014 के लोकसभा चुनाव में बठिंडा शहरी क्षेत्र से हरसिमरत कौर बादल को कम वोट मिले थे लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों और मानसा के मतदाताओं ने बादल को हारने से बचा लिया था।

कांग्रेस को बठिंडा सीट पर 1951, 1957, 1980 और 1991 में जीत मिली। इसके अलावा 1962, 1977, 1984 में यह सीट अकाली दल, 1967 में अकाली दल (संत गुट), 1971 में कम्युनिस्ट पार्टी, 1989 में शिरोमणि अकाली दल (मान), 1996, 1998, 2004, 2009 में शिरोमणि अकाली दल के कब्जे में रही।

बठिंडा लोकसभा के दायरे में 9 विधानसभा क्षेत्र आते हैं। जिनमें लांबी, भुचो मंडी (सुरक्षित), बठिंडा शहरी, बठिंडा ग्रामीण (सुरक्षित), तलवंडी साबो, मौर, मानसा, सरदूलगढ़, बुधलाड़ा (सुरक्षित) सीटें हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Devote financial products financial institutions being strong united states of america time.

Devote financial products financial institutions being strong united states of america time. Installment lending products of 5000 a low credit score pawnbroker payday breakthroughs, payday...

Volunteering can be perhaps one of the most fun and significant tasks you do as a senior.

Volunteering can be perhaps one of the most fun and significant tasks you do as a senior. 8. Volunteer. you may get out from the...

Standout element: Their particular “end-to-end” encoding obtains the communications with a secure

Standout element: Their particular "end-to-end" encoding obtains the communications with a secure 12. Juicebox Juicebox is the perfect application for sexting newbies. It provides private instruction...

That’s the reason when we are faced with such a predicament, the audience is often remote in approach

That's the reason when we are faced with such a predicament, the audience is often remote in approach Too many people however assume that a...

Recent Comments